Sunday, April 18, 2010

"पुराने दोस्त याद आते बहुत है ...."



पुराने दोस्त याद आते बहुत है ,
तनहाइयों में रुलाते बहुत है .
“राज" की जिंदगी की राहों में ,
मोड़ आते बहुत है .
किताब में रखे गुलाब के फूल
और तितलियाँ याद आते बहुत है ।
मै यहाँ ठीक हूँ , यह उनको है ख़बर ,
घर से दूर रहने पर मगर ,
हिचकियाँ आती बहुत है .
तनहाइयों में रुलाती बहुत है .
आंसुओं के समंदर में है , “राज” की जिंदगी
और लोग समझते है , हम मुस्कराते बहुत है . "

6 comments:

  1. आपकी ये रचना पढ़ कर एक गीत की पंक्तियाँ याद आ गयीं...

    जो तुम इतना मुस्कुरा रहे हो, क्या गम है जो हमसे छिपा रहे हो...

    बढ़िया रचना...

    ReplyDelete
  2. bahut khub



    shekhar kumawat


    http://kavyawani.blogspot.com

    ReplyDelete
  3. सच है पुरानी सब बातें बहुत याद आती हैं ... फिर दोस्तों की तो बात ही क्या ...

    ReplyDelete
  4. आप सभी का ह्रदय से आभार !
    मैं तो बस यूँ ही लिखता रहता हूँ.....
    अपने मन को हल्का करता रहता हूँ......

    ReplyDelete
  5. bahut sunder abhivykti apane bhavo kee........

    pichalee yade sahara hotee hai jeevan ka.........

    ReplyDelete
  6. सच कहा आपने.... यादें सहारा होतीं हैं जीवन का.....
    और ज़िन्दगी इन्ही यादों के सहारे गुज़र जाती है....

    ReplyDelete